Menu

आप अपने बिगड़े काम कैसे बनाये

आप अपने बिगड़े काम कैसे बनाये

आज हम आपक्को बताना चाहते आप कोई अच्छा कोई कोइअ काम करते हे और वो काम खराब हो जाता आज हम आपको बताना चाहते हे की मन लीजिये आप कोई भी काम करने जाते हे अचानक वो काम गलत हो जाताहै तो आप को काफी दुःख होता होगा आज हम आपको को बताना चाहते हे की

आप किस प्रकार अपने जीवन में आपने काम को नई दिशा में पहुंचना होगा

आपको सबसे पहले मगलवार का व्रत रखना होगा और ये सुब आप किसी को भी नहीं बताओगे और अपने जीवन में आगे बढ़ते जाओगे और आप रोजना शनिवार को रत को १२ बजे अपने निकटम चौराहे पैर जाकर एक दीपक जलाकर आना होगा और और ध्यान रक्खे की आप को कोई देखे नहीं और आप को ये काम ७ दिनों तक करना हे और आपके ये करने के बाद आप एक

आप अपने जीवन में महसूस करेंगे की आप एक नई दिशा की और आगे बेहद अच्छे तरीके से आगे भाड़ रहे

यदि आपको ऐसा महसूस हो रहा है कि आपकी किस्मत खराब चल रही है और सारे काम बिगड़ रहे हैं तो यह छोटा सा मुफ्त का उपाय आपके काम आ सकता है। इसमें आपको कोई भी पूजा-पाठ या विशेष कार्य करने कि आवश्यकता नहीं पड़ेगी।

ऐसे गुजरेगा आपका अच्छा दिन और बनेंगे सारे बिगड़े काम

आप सुबह प्रतिदिन नहाने के बाद एक सुंदर साफ बर्तन में ताजा पानी भरें और उसमें कुछ सफेद फूल यथा चमेली, मोगरा आदि डालकर घर के मुख्य दरवाजे पर रख दें। इसे इस प्रकार रखें कि जब भी आप घर से बाहर निकले तो आपकी नजर उस पर जरूर पड़ें। ऐसा करने से कुछ ही दिन में आपके सारे बिगड़े हुए काम अपने आप बनने लगेंगे और आपकी सोई किस्मत भी जाग उठेगी।

जिस स्थान पर होली जलाई जाती रही हो, वहां पर होली जलने से एक दिन पहले की रात्री में एक मटकी में गाय का घी, तिल का तेल, गेहूं और ज्वार तथा एक ताम्बे का पैसा रखकर मटकी का मुंह बंद करके गाड़ आएं। रात्रि में जब होली जल जाए, तब दूसरे दिन सुबह उसे उखाड़ लाएं। फिर इन सब वस्तुओं को पोटली में बांधकर जिस वास्तु में रख दिया जाएगा, वह वास्तु व्यय करने पर भी उसमें निरंतर वृद्धि होती रहेगी, और आपके भंडार भरे हुए रहेंगे।

आप अपने व्यापार में अधिक पैसा प्राप्त करना चाहते हैं और चाहते हैं की आपके व्यापार की बिक्री बढ़ जाए तो आप वट वृक्ष की लता को शनिवार के दिन जाकर निमंत्रण दे आएं। (वृक्ष की जड़ के पास एक पान, सुपारी और एक पैसा रख आएं) रविवार के दिन प्रातः काल जाकर उसकी एक जटा तोड़ लाएं, पीछे मुड़कर न देखें। उस जटा को घर लाकर गुग्गल की धूनी दें तथा 101 बार इस मंत्र का जप करे

अगर आप चाहते हैं की छोटे बच्चों को नजर न लगे इसके लिए हाथ में चुटकी भर रक्षा लेकर ब्रहस्पतिवार के दिन 'ॐ चैतन्य गोरखनाथ नमः मंत्र का 108 बार जप करें। फिर इसे छोटी-सी पुडिया में डालकर काले रेशमी धागे से बच्चे के गले में बाँधने पर बुरी नजर नहीं लगती।

अगर आप अपने व्यापार में मनोवांछित उन्नति करना चाहते हैं तो सोमवार को प्रातः नवनिर्मित अंगूठी को गंगाजल में धोकर गाय के दूध में डुबो दें, उसमें थोड़ी-सी शक्कर, तुलसी के पत्ते और कोई भी सफ़ेद फूल डाल दें। इसके पश्चात स्नान ध्यान से निवृत्त होकर अंगूठी को पहन लें। ऐसा करने से व्यापार में मनोवांछित उन्नति प्राप्त होगी।

Leave a Reply
Your email address will not be published. Required fields are marked *
Cancel reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *