Menu

कश्मीर को चीन से खतरा ,पाकिस्तान बन गया खेल कठपुतली जानिये

कश्मीर को चीन से खतरा ,पाकिस्तान बन गया खेल कठपुतली जानिये

[vc_row][vc_column][vc_column_text]आज तक आप ये सुनते आ रहे होंगे की पाकिस्तान कश्मीर में घुसपैठ करवता हे लकिन यह आपंको एक ऐसी बात बताना चाहते हे की आप भी हैरान हो जाओगे | आज भी कश्मीर को पाकिस्तान से ज्यादा कश्मीर से डर लगता हे | हमे आज भी यह पता लग गया हे की आज भी पाकिस्तान चीन के मुहरे से ज्यादा कुछ नहीं हे |

दरअसल महबूब के बयान पर कुछ लोगो ने पाकिस्तान की व्वस्था को कमजोर मन जा रहा हे | लेकिन महबूब सच बोल रही हे | उनका कहना हे की चीन शातिराना तरीके से पाकिस्तान के रस्ते कश्मीर पर कब्जा करना चाहता हे | इसके लिए चीन गुलामी करने के लिए भी तैयार हे इस लिए अधिकृत निवेश चीन पाकिस्तान में कर रहा हे |चीन की वन बेल्ट वन रोड नीति का भारत पहले भी विरोध कर चुका है. | यह सड़क पाकिस्तान से गुजरती हुई कश्मीर को भी जोड़ती हे इससे चीन अपना निवेश करके कश्मीर पर धाक जमाना चाहता हे | लेकिन चीन वहा पर रुकने को तैयार नहीं हे |

लोगो का कहना हे की भारत की बढ़ती हुई खुन्नस को हम अरुणाचल प्रदेश और भूटान की सीमा तक हे सीमित रख सकते हे | लेकिन ओरिएंटल टाइम्स के हाथ ऐसे दस्तावेज हाथ लगे हे जिन्हे देखकर हमारे देश की चिंता बढ़ जायेगी | और हमारी भारत सरकार की भी चिंता बढ़ जाएगी | जिन्हे देखकर ऐसा लगता हे की चीन से भाई चारे या फिर दोस्ती करने की उम्मीदे टूट जाएगी |

और इसका यह मतलब निकलकर आता हे की चीन पाकिस्तान के साथ मिलकर ऐसा खेल खेल रहा हे | जिससे पाकिस्तान चीन की कठपुतली बनकर रह जाएगा |

इस मुद्दे पर जेडीयू नेता शरद यादव ने कहा, "यह बात किसी से छिपी नहीं है कि चीन पाकिस्तान में पूरी तरह से पैसा लगा रहा है और उसे मजबूत बनाने में लगा है. हमारी विदेश नीति की विफलता है कि आज हमारे साथ चीन पाकिस्तान नेपाल से लेकर किसी भी पड़ोसी देश से संबंध बहुत अच्छे नहीं हैं."

आपको बता दें कि भारत को घेरने के लिए यह ब्लूप्रिंट बाकायदा चीन के राष्ट्रीय विकास एवं सुधार आयोग ने तैयार किया है. और तो और पाकिस्तान के योजना आयोग ने इस ब्लू प्रिंट को मंजूरी दी है. बीजिंग की रेनमिन यूनिवर्सिटी ने इस ब्लू प्रिंट का आकलन किया है.[/vc_column_text][/vc_column][/vc_row]

Leave a Reply
Your email address will not be published. Required fields are marked *
Cancel reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *