Menu

इस गांव में पहुंची आजादी के साल बाद 60 बिजली .

इस गांव में पहुंची आजादी के साल बाद 60 बिजली .

[vc_row][vc_column][vc_column_text]तमाम इन्तजार के बाअद मजरा बेसनबाग में आखिरकार वो पला ही गया , जिसका गांव वालो को आजादी के बाद से इन्तजार था | बुधवार को विधायक अवनीश कुमार ने फीता काटा | और उन्होंने बटन दबाकर बिजली को कालू किया ,बटन दबाने के साथ चमकी दूधिया ग्रामीणों के चेहरे भी चमक उठे |

यहां बात हो रही हे चीन हट विकाश खंड में रेठा पंचयात के मजरा बेसनबाग के ,बीकेटी विधुत वितरण खंड में आने वाले इस इस मजरे से महज पांच सो मीटर दूर पर उल्रापुर गांव तक बिजली थी ,बेसनबाग के पूरब में एक किलोमीटर की दूरी पर स्थित शिवखण्ड गांव और दक्षिण में करीब एक किलोमीटर की दूरी पर बसे रेथा गांव में भी बिजली नहीं हे , लेकिन राजधानी के विकसित बक्शी का तालाब का यह मजरा रोशनी से महरूम था | बारह सो आबादी वाला यह मजरा दुनिया से कटा हुआ था |

तमाम प्रचार के बाद भी बिजली यहां नहीं पहुंची , ग्रामीणों के पास मोबाइल थे लेकिन उन्हें चार्ज करने के लिए पड़ोस के गांव जाना पड़ता था |बदरी के सहारे कभी कबार टीवी देख पाते थे |बीकेटी वितरण खंड के अधिशासी अभियंता राम प्रकाश गुप्ता के प्रयासों से मजरे में एक सप्ताह के भीतर बिजली पहुंचा दी गयी हे |यह कार्य दीं दयाल उपाद्यय ग्रामीण विधुतीकरण योजना के तहत कराया गया हे |

बेसनबाग गांव की गृहणी संगीता ने बताया गांव में बिजली न होने से नाते रिश्ते दरों में शर्म महसूस होती हे बीपीएल कार्ड धारक देशरानी ने बताया घर में बिजली होगी , यह किसी ने अभी तक नहीं सोचा था | यहां रहने वाले धनीराम कहते हे की बिजली से लघु उधोग लगाकर रोजगार की शुरूआत की जा सकेगी[/vc_column_text][/vc_column][/vc_row]

Leave a Reply
Your email address will not be published. Required fields are marked *
Cancel reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *