Menu

गोरखपुर बीआरडी अस्पताल मामले में, सुप्रीम कोर्ट का इंकार

गोरखपुर बीआरडी अस्पताल मामले में, सुप्रीम कोर्ट का इंकार

[vc_row][vc_column][vc_column_text]गोरखपुर बीआरडी अस्पताल में ऑक्सीजन कमी के कारण पिछली 1 सप्ताह में 70 बच्चो की जान चली गई | ऑक्सीजन की कमी में मारे गए बच्चो का मामला सुप्रीम कोर्ट ने लेने से मन कर दिया है | सोमवार को कोर्ट ने कहा है कि इस मुद्दे

पर कोई भी याचिकाकर्ता हाई कोर्ट जा सकता है. कोर्ट ने कहा कि इस घटना को राज्य के मुख्यमंत्री खुद देख रहे है !

आप को बता दे की गोरखपुर बीआरडी अस्पताल में पिछले 3 दिन में ही आकड़ा 70 पर पहुंच गया. जहाँ राज्य सरकार बच्चो के मरने की वजह बीमारी का कारण बता रही है वही मृतक के परिजनों अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी का

कारण बता रहे है परिजनों का कहना है की उनके बच्चो की मृत्यु अस्पताल में हुई ऑक्सीजन की कमी के कारण हुई है !

रविवार को मुख़्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा गोरखपुर बीआरडी अस्पताल पहुंचे. मुख़्यमंत्री ने मीडिया से बात चित पर कहा की हम बच्चो के मामले की जांच कराएंगे.और किसी भी दोषी को बक्शा नहीं जायेगा. दोषियों

को सख्त सजा ज़रूर मिलेगी.

क्या है मामला !

आप को बता दे की ऑक्सीजन की कमी की जानकारी पहले से ही दे दी गयी थी. यहाँ तक की अस्पाताल में प्रशासन को भी बहुत पहले से ये बात पता थी की ऑक्सीजन सप्लाई कर ने वाली कंपनी ने पहले से ही नोटिस भेज दिया और

भुगतान कर ने के लिए कहा था. इसके बाद भी प्रशासन ने लापरवाही की जिसकी वजह से 70 मासूम बच्चो की जान चली गई !

इलाहाबाद हाईकोर्ट के न्यायाधीश एसआर सिंह ने कहा की कंपनी नोटिस देने भर से नहीं बच सकती | कानून ये मने गा की कंपनी को ऑक्सीजन न देने के गंभीर परिणामों की जानकारी थी | जानकारी होने के कारण और ऑक्सीजन न

देने पर कंपनी पर भी आइपीसी धारा 304 भाग दो के तहत गैर इरादतन हत्या मामला दर्ज होगा. जिस के तहत 10 साल की सज़ा और जुर्माना देना होगा ![/vc_column_text][/vc_column][/vc_row]

Leave a Reply
Your email address will not be published. Required fields are marked *
Cancel reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *