Menu

इसरो लांच करेगी आज , 6 प्राइवेट कंपनियों की मदद से बना सेटेलाइट

इसरो लांच करेगी आज , 6 प्राइवेट कंपनियों की मदद से बना सेटेलाइट

इसरो (इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन) पहली बार 6 प्राइवेट कंपनियों की मदद से बना अपना पहला सैटेलाइट को लांच करेगा। इस सेटेलाइट का  नाम आईआरएनएसएस-1 एच रखा गया है ।

इसरो ने बताया की , यह पहला मौका है जब किसी सैटेलाइट को बनाने में प्राइवेट कंपनियां सीधे तौर पर शामिल हुई हैं। आईआरएनएसएस-1 एच को बनाने में प्राइवेट कंपनियों का 25% योगदान रहा है।

- इसरो का कहना है कि इससे पहले सैटेलाइट बनाने में प्राइवेट कंपनियां सिर्फ हार्डवेयर, सॉफ्टवेयर, पार्ट और जरूरी सामान ही मुहैया कराती थीं, लेकिन

आईआरएनएसएस-1 एच में प्राइवेट कंपनियों के इंजीनियर और टेक्निकल्स एसेंबलिंग, इलेक्ट्रिकल इंटीग्रेशन, टेस्टिंग आदि काम में शामिल रहे हैं। इसके लिए 6

प्राइवेट कंपनियों का एक ग्रुप बनाया गया था। इन कंपनियों के 70 लोगों को अलग से ट्रेनिंग भी दी गई।

क्यों किया प्राइवेट सेक्टर की कंपनियों का इस्तेमाल

प्राइवेट सेक्टर की कंपनियों का सेटेलाइट बनाने में मदद की वजह सेटेलाइट बनाने में तेजी लाना है | भारत में चारो और नजर रखने के लिए काम से काम 15 से 20 सेटेलाइट की आवस्यकता है जिसके लिए तेजी यह सेटेलाइट को बनाने के लिए प्राइवेट कंपनियों का इस्तमाल किया गया है |

प्रियवत कंपनियों को राकेट बनाने में भी मदद ली जा रही है और यह 2020 तक इसे लुआनच किये जाने की संभावना है | इसी साल फरवरी महीने में इसरो ने एक साथ सबसे ज्यादा सैटेलाइट्स लॉन्च करने का वर्ल्ड रिकॉर्ड भी बनाया था । इसरो ने एक साथ 30 मिनट में 104 सैटेलाइट्स,लॉन्च का रिकॉर्ड बनाया था | जो की इसरो की सबसे बड़ी कामयाबी थी |

ग्लोबल सैटेलाइट मार्केट में भारत की हिस्सेदारी तेजी से बढ़ रही है। अभी यह इंडस्ट्री 13 लाख करोड़ रुपए की है।

- इसमें अमेरिका की हिस्सेदारी 41% की है। जबकि भारत की हिस्सेदारी 4% से भी कम है।

- विदेशी सैटेलाइट की लॉन्चिंग इसरो की कंपनी एंट्रिक्स कॉरपोरेशन लिमिटेड के जरिए होती है।

- 1992 से 2014 के बीच एंट्रिक्स कॉरपोरेशन को 4408 करोड़ रुपए की कमाई हुई।

- इसरो सैटेलाइट लॉन्चिंग से अब तक 660 करोड़ रुपए से ज्यादा की कमाई कर चुका है।

Leave a Reply
Your email address will not be published. Required fields are marked *
Cancel reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *