Menu

घर पर बनाये यह अमृतधारा , करेगी 10 जानलेवा बीमारियों का इलाज

घर पर बनाये यह अमृतधारा , करेगी 10 जानलेवा बीमारियों का इलाज

मानव शरीर में सिरदर्द, बदन दर्द, सर्दी-जुकाम जैसी आम बीमारियों के लिए महंगी दवाओं के बजाय आम घरेलू नुस्खे ज्यादा कारगर साबित होते हैं। आयुर्वेदिक एक्सपर्ट और प्रैैक्टिशनर डॉ. अबरार मुल्तानी का कहना है कि 10 से ज्यादा आम हेल्थ प्रॉब्लम में काम आने वाली अमृतधाराको घर पर ही बनाया जा सकता है। इस नुस्खे को बनाने के लिए जरूरी सामग्री बड़ी आसानी से किसी भी पंसारी की दुकान या आयुर्वेदिक दवा शॉप में मिल जाएगी। इस नुस्खे को कैसे बनाएं और इसका इस्तेमाल किस हेल्थ प्रॉब्लम में किस तरह करना है, बता रहे हैं डॉ. मुल्तानी।

कैसे बनाये अमृतधारा

आवशयक सामग्री

- 5 ग्राम भीमसेनी कपूर

- 5 ग्राम पिपरमिंट

- 5 ग्राम अजवायन

- 1 कांच की बोतल

अमृतधारा बनाने की विधि

सभी का सामग्री भीमसेन कपूर ,पिपरमिंट और अजवायन को पीस कर उसे अच्छी तरह मिलकर उसे कच की बॉटल में डाला दे | अब इस कांच की बोतल को 5 से 10 दिन तक धुप में रखे | और इससे उपयोग में लेन से पहले इसको अच्छी तरह हिलाये | और इसका रोजाना सेवन करे इससे आपको बीमारियों में फायदा मिलेगा |

अमृतधारा किन बीमारियों में है उपयोगी

- शरीर में कमजोरी दूर करने के लिए अमृतधारा का उपयोग करना चाहिए | गे के गहि में 3 बून्द अमृतधारा और सहद मिलकर खाने से शरीर की कमजोरी दूर होती है |

-पेट में कब्ज ,डायरिया ,उलटी होने पर अमृतधारा के उपयोग से सभी थी हो सकती है |

- जुखाम होने पर अमृतधारा को रुमाल में लेकर सूंघने से आपको फायदा होगा |

-और आपके दांतो में दर्द है तो अमृतधारा को लगाने से आपको दर्द काम हो जायेगा |

-अमृतधारा हिचकी रोकने में भी काम में आती है |

-सिरदर्द होने पर थोड़ा सा अमृतधारा लेकर मालिश करने पर आपका सर दर्द दूर हो जायेगा |

-अगर आप मुँह के चलो से परेशान है तो आप अमृतधारा का उपयोग कर सकते है |

-किसी कीड़े के कटाने पर उस जगह सूजन आ जाती है जिस पर अमृतधारा लगाने पर वह सूजन काम हो जाती है |

-अगर जोड़ो और कमर में हमेशा दर्द होता है तो आपको अमृतधारा की कुछ बुँदे लगाने और उससे मालिश करने आपको फयदा मिलेगा |

Leave a Reply
Your email address will not be published. Required fields are marked *
Cancel reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *