Menu

धनतेरस के दिन इन चीजों के घर लाने से होगी लक्ष्मी माता खुश

धनतेरस के दिन इन चीजों के घर लाने से होगी लक्ष्मी माता खुश

दीवाली से लगभग एक या दो दिन पहले हम सब के वहाँ धनतेरस मनाया जाता है, जिस त्योहार में सामानों की खरीददारी बहुत बड़े स्तर में होती है। धनतेरस को देवी लक्ष्मी और कुबेर का पर्व माना जाता है। इस दिन को लेकर कई मान्यताएं हैं। यदि आप धनतेरस के दिन बताए जाने वाली कुछ वस्तुओं को खरीदेगें तो कभी भी आपके घर में पैसों की कमी नहीं रहेगी। हमेशा आपके घर में अन्न और धन दोनों ही पूर्ण रूप से रहेगें। आइये जानते है वे कौनसी शुभ चीजे खरीददारी के लिए बताई गयी है |

1 गणेश और लक्ष्मी जी की प्रतिमा

धनतेरस के दिन आपको देवी लक्ष्मी और गणेश जी की मूर्ति लानी चाहिए। इससे पूरे साल घर में धन और अन्न की कमी नहीं होती है। ये धन और बुद्धि बढ़ाते है |

2 झाडू

देवी लक्ष्मी जी का प्रतीक होता है झाडू। धनतेरस के दिन घर में नई झाडू लाने से घर की नकारात्मक उर्जा बाहर चली जाती हैं। और साफ घर में लक्ष्मी जी प्रवेश करती हैं।

3 सात मुखी रुद्राक्ष

धनतेरस के दिन सात मुखी रुद्राक्ष भी घर पे लानी चाहिए और इसकी पूजा करनी चाहिए। लक्ष्मी के सात सात ,अहदेव की कृपा भी बनी रहेगी।

4 धनिया

धनिया को धन का प्रतीक और शुभ माना गया है । धनतेरस के दिन साबुत धनिया घर लाना चाहिए। और इसे पूजा करने के बाद अपने घर के आंगन और गमले में डाल देना चाहिए।

5 नमक

धनतेरस वाले दिन आपक नमक भी जरूर खरीदें। नमक का इस्तेमाल भी करें। एैसा कहा जाता है कि इस दिन नमक लाने से घर में धन में अधिक बढ़ोत्तरी होती है। और सुख शांति घर में आती है। नमक घर की दरिद्रता को खत्म कर देता है।इस दिन आप नमक का पोछा भी अपने घर में जरूर लगाएं एैसा करने से लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं।

6 कौड़ियां

धनतेरस के दिन कौडियां खरीदना अति शुभ होता है। जिस घर में कौड़ियां रहती हैं उस जगह कभी धन की कमी नहीं होती है। आप लक्ष्मी पूजा के बाद कौड़ियों को लाल कपड़े में बांधकर अपनी तिजोरी में रख दें।

7 शंख

शंख सुख समृद्धि और शांति का प्रतीक है। धनतेरस के दिन शंख घर लाने से लक्ष्मी का वास होगा और इससे पूजा करते वक़्त बजाये जिससे घर के सरे अनिष्ट टल जायेंगे।

Leave a Reply
Your email address will not be published. Required fields are marked *
Cancel reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *