Menu

दुनिया की सबसे महगी अंतिम विदाई , जाने

दुनिया की सबसे महगी अंतिम विदाई , जाने

थाईलैंड के राजा अदुल्यादेज भूमिबोल का गुरुवार को शाही अंतिम संस्कार किया गया। उनकी मौत पिछले साल 13 अक्टूबर को हुई थी। राजमहल से राजा के पार्थिव शरीर को सोने के रथ ग्रेट विक्ट्री से श्मशान स्थल लाया गया। यह रथ 222 साल पुराना है। दो किमी की दूरी तीन घंटे में पूरी हुई। दाह संस्कार के लिए 185 फीट ऊंचा सोने जैसा चमकता श्मशान बनाया गया। अंतिम संस्कार के लिए देश की मिलिट्री सरकार ने 3 बिलियन बाह्त (करीब 582 करोड़ रूपए) की रकम भी जारी कर दी थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह अब तक का सबसे महंगा अंतिम संस्कार है। एक साल से महल में रखा था शव...

- महल परिसर में एक साल यथारूप में रखे रहे पार्थिव शरीर को बुधवार रात शैया से हटाया गया।

- इसके बाद गुरुवार को दरबार हाल से अंतिम संस्कार की प्रक्रिया शुरू हुई और राजा का पार्थिव शरीर महल से बाहर लाया गया।

- जैसे ही राजा का शव पहुंचा, तो तोपों की सलामी दी गई। सेना और शाही परिवार से जुड़े लोगों के अलावा सभी लोग काली ड्रेस में थे। 

- सबसे पहले लाल वस्त्रों में भूमिबोल के इकलौते पुत्र और नए राजा महा वाजीरालोंगकोर्न अपने बेटे और दो बेटियों के साथ बाहर आए।

- राजा के अंतिम संस्कार की तैयारियां पिछले एक साल से चल रही थी। इस रस्म के लिए एक शाही चिता बनाई गई जो स्वर्ग की कल्पना पर आधारित है।

- भूमिबोल का पार्थिव शरीर सुनहरे रंग के कपड़े में लपेटकर गाड़ी पर रखा गया था। इससे पहले अपने दिवंगत राजा को नजदीक से देखने की इच्छा लिए दसियों हजार लोग बुधवार शाम को ही बैंकॉक के ग्रांड पैलेस के बाहर आ जुटे थे।

- चटाई लेकर आए इन लोगों ने रात सड़क के किनारे काटी। परंपराओं का पालन करते हुए एक साल बाद अब उनका अंतिम संस्कार हो रहा है।

देश को कई बार संकट से उबारा

- उन्होंने करीब सात दशक तक थाईलैंड की राजगद्दी संभाली। जब देश में सरकार अस्थिर हुई, कोई असमंजस पैदा हुआ।

- भूमिबोल ने अपने अधिकारों का इस्तेमाल करते हुए देश को संकट से उबारा। विकास के कार्यों के लिए सरकारों को दिशा-निर्देश देते रहे।

- राजा भूमिबल 1946 में थाईलैंड के राजा बन गए थे। इस दौरान उन्हें थाईलैंड के लोगों को साथ लाने और देश में शांति बनाए रखने के लिए जाना गया। उनकी गिनती दुनियाभर के अमीर राजाओं में होती थी।

- राजा भूमिबल दो सौ साल पुराने चकरी राजवंश के 9वें राजा थे। वो दुनियाभर में सबसे लंबे समय तक राज करने वाले राजा के तौर पर जाने जाते हैं।

- उनके 70 साल लंबे राज में देश में 12 प्रधानमंत्री बदले। इसके अलावा लगभग 10 बार सैन्य-तख्तापलट की नाकाम कोशिश भी हुई।

सुरक्षा में लगे थे 78000 पुलिस अफसर

- अंतिम संस्कार के लिए देश की मिलिट्री सरकार ने 3 बिलियन बाह्त (करीब 582 करोड़ रूपए) की रकम भी जारी कर दी थी।

- क्रीमेशन साइट को बैंकॉक का प्राचीन रूप दिया जा रहा है। इसके लिए आर्टिस्ट्स यहां पिछले 10 महीने से काम कर रहे थे।

Leave a Reply
Your email address will not be published. Required fields are marked *
Cancel reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *