Menu

जाने की किस तरह से चलता हे इंटरनेट

जाने की किस तरह से चलता हे इंटरनेट

 

हम सब इंटरनेट का उपयोग तो रोज करते हैं लेकिन क्या आपको पता है कि इंटरनेट क्या है और इन्टरनेट कैसे काम करता है l जैसे आप यहाँ बैठे व्हाट्सप्प या फेसबुक पर messages सेंड करते है और हजारो किलोमीटर दूर बैठे आपके रिलेटिव आपके massage को कुछ ही सेकंड में पड़ लेते हैl ये सब इंटरनेट का कमाल है जिसने दुनिया को बहुत छोटा बना दिया है।

 

तो दोस्तो आज हम आपको बताएंगे कि ये इंटरनेट आखिर चलता कैसे है। सबसे पहले आपको ये बताते हैं कि भारत में सबसे पहले 15 अगस्त 1995 को सरकारी कंपनी BSNL ने इंटरनेट का शुरुआत किया था l बाद में धीरे धीरे प्राइवेट सर्विस प्रोवाइडर्स जैसे airtel ,reliance , idea ने इंटरनेट को start किया था ।

और अब तो आप सब जानते ही हैं कि जिओ ने इस छेत्र में क्रांति ला दी है।

 

 

दोस्तो अब आते हैं कि आखिर ये इंटरनेट कैसे काम करता और चलता है। आप में से कुछ लोग सोच रहे होंगे कि हमारे उपर कोई बादल है जिसके अन्दर इंटरनेट के सारे डाटा स्टोर रहते है और वही से इंटरनेट चलता है l लेकिन हम आपको बता दे कि ऐसा कुछ नहीं है l पूरा इंटरनेट हमारे द्वारा छोड़े गए उपग्रह से भी नहीं चलता l

 

 

उपग्रह से पहले चलता था लेकिन ये तकनीक बहुत पुरानीं हो चूकी है और इसमें डाटा भी स्लो लोड होता था l लेकिन हमारे इंजीनियर्स ने एसी तकनीक खोज निकाली जिसमे हम आज फ़ास्ट इंटरनेट उपयोग कर रहे है ये तकनीक है ऑप्टिकल फाइबर केबल

 

ये बात सच है कि हमने 8 लाख किलोमीटर से भी ज्यादा लम्बाई वाले ऑप्टिकल फाइबर केबल को समुद्र में बिछाये है जिसमे हमारे इंटरनेट का 90% use होता है l समुद्र में वही ऑप्टिकल फाइबर केबल बिछाये जाते है जिनमे कम नुकसान और कम लागत आती है l

 

चूकी केबल को समुद्र में बिछाया जाता है जिसमे बड़े बड़े जहाज भी चलते है और कभी कभी जहाज के लंगर से भी ऑप्टिकल फाइबर केबल को नुकसान हो जाता है।

 

इस समस्या का भी समाधान किया गया है l एसी कई टीम बनाई गयी है जो 24 घंटे समुद्र में ऑप्टिकल फाइबर केबल कि निगरानी करती है l यदि कही किसी ऑप्टिकल फाइबर केबल में नुकसान होता है तो ये टीमे उसको जल्दी से जल्दी ठीक कर देती है l

अब आपको पता चल गया होगा कि 90% इंटरनेट केबल के जरिये चलता है लेकिन 10% कहा से चलता है l ये 10% इंटरनेट ख़ुफ़िया एजेंसी के द्वारा एक्सेस किया जाता है जो कि उपग्रह से चलता है इस इंटरनेट को हम आम लोग एक्सेस नहीं कर सकते है l

Leave a Reply
Your email address will not be published. Required fields are marked *
Cancel reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *