Menu

एशियाई चैंपियनशिप : 35 साल की मेरी कॉम ने 5 वी बार जीता गोल्ड , रचा इतिहास

एशियाई चैंपियनशिप : 35 साल की मेरी कॉम ने 5 वी बार जीता गोल्ड , रचा इतिहास

पांच बार की विश्व चैंपियन भारतीय मुक्केबाज एमसी मैरी कॉम ने शानदार प्रदर्शन कायम रखते हुए बुधवार (8 नवंबर) को पांचवी बार एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनशिप के फाइनल में गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रच दिया है। मैरी कॉम ने 48 किलो लाइट फ्लाइवेट वर्ग के फाइनल में नॉर्थ कोरिया की हियांग मी किम को एकतरफा 5-0 से हराया। 2012 लंदन ओलंपिक में कांस्य पदक जीतकर इतिहास रचने वाली 35 साल की मैरी कॉम करीब एक साल के अंतराल के बाद रिंग में वापसी की है।

पांच साल 51 किलो भार वर्ग में भाग लेने के बाद मैरीकॉम 48 किलोवर्ग में लौटी हैं। 48 किलोवर्ग में उनका पहला एशियाई स्वर्ण पदक है। इससे पहले मंगलवार (7 नवंबर) को 35 वर्षीय अनुभवी भारतीय मुक्केबाज ने सेमीफाइनल में जापान की तसुबासा कोमुरा पर 5-0 से बड़ी जीत दर्ज की थी। अपने अनुभव से उन्होंने इस मैच में जापान की मुक्केबाज को आसानी से हरा दिया था।

भारतीय मुक्केबाजी की ‘वंडर गर्ल’ मैरी कॉम ने एशियाई मुक्केबाजी में पांचवीं बार स्वर्ण पदक अपने नाम कर लिया, जबकि सोनिया लाथेर (57 किलो ) को रजत पदक से ही संतोष करना पड़ा। ओलंपिक कांस्य पदक विजेता मैरी कॉम मैरी कॉम का यह 2014 एशियाई खेलों के बाद पहला अंतरराष्ट्रीय स्वर्ण पदक है और एक साल में उनका पहला पदक है।

Leave a Reply
Your email address will not be published. Required fields are marked *
Cancel reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *