Menu

पद्मावती:सड़क पर गुस्सा कर रहे हे राजपूत , नहीं होने देंगे राजस्थान में रिलीज

पद्मावती:सड़क पर गुस्सा कर रहे हे राजपूत , नहीं होने देंगे राजस्थान में रिलीज

संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती 1 दिसंबर को रिलीज होने वाली है. फिल्म की शूटिंग के दौरान से ही शुरू हुआ विवाद अपने चरम पर पहुंच गया है. अब राजपूत संगठन किसी भी कीमत पर फिल्म रोकने को आमादा है. जानकारी के मुताबिक राजस्थान के अलग अलग हिस्सों में फिल्म के कंटेंट पर आपत्ति जताई जा रही है. इस बीच पूर्व राजघरानों के वारिस भी खुलकर सामने आए हैं और फिल्म को बैन करने की मांग कर रहे हैं. इस बारे में आज जयपुर के पूर्व राजघराने की राजकुमारी और विधायक दीया कुमारी एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी करने वाली हैं.

अब तक क्या हुआ?

सेंसर बोर्ड के मेंबर और भारतीय जनता पार्टी के नेता अर्जुन गुप्ता ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह को एक चिट्ठी लिखकर भंसाली पर देशद्रोह का मामला दर्ज करने की मांग की है.

#1. सुप्रीम कोर्ट में भी एक पेटीशन लगाकर फिल्म को बैन करने की मांग की गई है. पद्मावती पर बढ़ते गुस्से के मद्देनजर महाराष्ट्र में मुंबई पुलिस ने संजय लीला भंसाली के जुहू दफ्तर के बाहर 16 पुलिसकर्मियों की टीम तैनात की है.

#2. सुरक्षा 24 घंटे के लिए है जो फिल्म रिलीज होने तक जारी रहेगी.

#3. अलाउद्दीन खिलजी और रानी पद्मावती के ड्रीम सीक्वेंस पर भंसाली ने सफाई दी है. एक फेसबुक पोस्ट में उन्होंने कहा कि फिल्म में ऐसा कुछ नहीं है जिससे रानी पद्मावती की गरिमा को ठेस पहुंचे. उन्होंने लिखा, 'मैंने पद्मावती बहुत ईमानदारी और जिम्मेदारी के साथ बनाई है. मैं हमेशा से रानी पद्मावती की कहानी से प्रेरित रहा हूं.'

 

यह भी पढ़े:-पद्मावती : संजय लीला भंसाली की मुस्किले बढ़ी , डिस्ट्रीब्यूटर्स ने राइट खरीदने से किया इंकार

किसने क्या कहा

#1. मेवाड़ के पूर्व राजघराने ने पद्मावती को राजपूत समाज का अपमान बताया. फिल्म बैन करने की मांग की.

#2. जयपुर पूर्व राजघराने की दीया कुमारी ने इसे राजस्थान की संस्कृति के साथ खिलवाड़ बताया. कहा पद्मावती को बैन किया जाए.

#3. गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री शंकर सिंह वाघेला ने कहा कि क्षत्रीय प्रतिनिधियों को बिना दिखाए फिल्म रिलीज होती है तो गुजरात में हिंसा फ़ैल सकती है.

#4. केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने कहा, फिल्म में भारतीय नारी के चरित्र का हनन किया गया है जिसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता. अलाउद्दीन खिलजी व्यभिचारी हमलावर था.

#5. केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा, 'मुझे इस संदर्भ में कुछ भी नहीं बोलना है. जिस स्टोरी और कहानी के बारे में जाना नहीं, देखा नहीं है और पढ़ा नहीं है, उसके बारे में कुछ भी नहीं कहना चाहती हूं.'

#6. उज्जैन से भाजपा सांसद ने भंसाली पर व्यक्तिगत टिप्पणी की. फेसबुक पर लंबा पोस्ट लिखा.

लोगों ने पद्मावती पर क्या मांग की

ज्यादातर संगठनों और लोगों ने फिल्म के कंटेंट पर आपत्ति की. कहानी में ऐतिहासिक तथ्यों को गलत तरीके से पेश करने का आरोप लगाया. फिल्म बैन करने की मांग की.

 

यह भी पढ़े:-विद्या बालन ने मांगी माफ़ी कहा शायद उन्हें गलत फहमी हो गयी

#1. बीजेपी : केंद्र सरकार, सेंसर बोर्ड और निर्वाचन आयोग को चिट्ठी लिखी. कहा, गुजरात चुनाव से पहले फिल्म को रिलीज न किया जाए. इसे पार्टी के राजपूत प्रतिनिधियों को दिखाया जाए.

#2. कांग्रेस : कांग्रेस की गुजरात ईकाई ने भी बीजेपी की तरह फिल्म के कंटेंट पर आपत्ति जाहिर की. बैन करने को कहा.

#3. करणी सेना : शुरू से विरोध कर रही है, संगठन की मांग है कि रिलीज से पहले फिल्म को राजपूत प्रतिनिधियों को दिखाया जाए.

चुनाव आयोग ने खारिज की मांग

निर्वाचन आयोग ने बीजेपी की उस मांग को खारिज कर दिया है जिसमें कहा गया था कि गुजरात में विधानसभा चुनाव के चलते फिल्म पद्मावती की रिलीज पर रोक लगाई जाए या इसे आगे बढाया जाए.

खुलकर भंसाली का सपोर्ट नहीं

बॉलीवुड खुलकर भंसाली के सपोर्ट में नजर नहीं आ रहा है. हालांकि उनके समर्थन में छिटपुट बयान आए हैं. गुरुवार को अर्जुन कपूर ने ट्वीट किया और लिखा, एक बार फिर एक शख्स को अपनी रचनात्मकता सिद्ध करनी पड़ रही है क्योंकि राजनीति माहौल को गंदा बना देती है. वो एक शानदार फिल्ममेकर हैं. उनकी सोच पर विश्वास करना चाहिए. मुझे यकीन है कि रानी पद्मावती की कहानी सम्मानित तरीके से दिखाई जाएगी.

 

यह भी पढ़े:-बोल्ड लुक में दिखी ‘ये है मोहब्बतें’ की एक्ट्रेस, कराया न्यू Photoshoot

[playlist type="video" ids="7303"]

Leave a Reply
Your email address will not be published. Required fields are marked *
Cancel reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *