Menu

मणिशंकर अय्यर ने मोदी को दी गाली , राहुल गांधी ने कहा माफी मांगें

मणिशंकर अय्यर ने मोदी को दी गाली , राहुल गांधी ने कहा माफी मांगें

नेहरू गांधी परिवार पर परोक्ष निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि बाबा साहब भीमराव अंबेडकर के जाने के बरसों बाद तक राष्ट्र निर्माण में उनके योगदान को मिटाने के प्रयास किए जाते रहे लेकिन जिस ‘परिवार’ के लिए ये सब किया गया, उस परिवार से कहीं ज्यादा लोग आज बाबा साहेब से प्रभावित हैं. इस पर कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने कहा कि ने पीएम मोदी पर पलटवार करते मर्यादा लांघ गए और उन्हें अपशब्‍द कहे. मणिशंकर अय्यर ने कहा, 'अंबेडकर जी की सबसे बड़ी ख्‍वाहिश को साकार किया जवाहर लाल नेहरू ने. इस परिवार के बारे में ऐसी गंदी बात कहीं, जबकि अंबेडकर जी की याद में एक इमातर का उद्घाटन हो रहा है यहां. मुझे लगता है ये आदमी बहुत नीच किस्‍म का आदमी है, इसमें कोई सभ्‍यता नहीं है. ऐसे मौके पर ऐसी गंदी राजनीति की क्‍या आवश्‍यकता है.'

इसके बाद इसको लेकर विवाद हो गया और अय्यर को सफाई देनी पड़ी. मणिशंकर अय्यर ने सफाई में कहा, हां मैंने अंग्रेजी तें नीच कहा था. अगर इसका मतलब हिंदी में ऐसा होता है तो मैं माफी मांगता हूं. मैं अच्‍छे से हिंदी नहीं जानता. मैंने एक शब्‍द का इस्‍तेमाल किया जिसके कई मायने निकलते हैं और जो मायना मोदी जी निकाल रहे हैं उससे मेरा कोई सरोकार नहीं है.'

राहुल गांधी ने भी अपनी पार्टी के वरिष्‍ठ नेता की टिप्‍पणी पर प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त करते हुए कहा कि 'बीजेपी और प्रधानमंत्री लगातार कांग्रेस पर हमला करने के लिए गलत भाषा का इस्‍तेमाल करते हैं. कांग्रेस पार्टी में अलग तरह की परंपरा और विरासत रही है. मैं पीएम मोदी को संबोधित करने के लिए मणिशंकर अय्यर द्वारा इस्‍तेमाल की गई भाषा और तरीके का समर्थन नहीं करता. कांग्रेस और मैं दोनों चाहते हैं कि जो भी उन्‍होंने कहा उसके लिए वो माफी मांगें.'

उधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मणिशंकर अय्यर की टिप्‍पणी पर प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त करते हुए कहा, 'श्रीमान मणिशंकर अय्यर ने कहा कि मोदी तो नीच जाति का है, मोदी तो नीच है. यह गुजरात का अपमान है, भारत की महान परंपरा का अपमान है. अरे ये तो मुगलई मानसिकता है, ऊंच नीच का संस्‍कार हिंदुस्‍तान में नहीं है.'

राहुल गांधी पर तंज कसते हुए पीएम मोदी ने कहा था कि आजकल कुछ लोगों को ‘बाबा साहब’ नहीं बल्कि ‘बाबा भोले’ याद आ रहे हैं. इस पर मंणिशंकर अय्यर ने कहा कि अंबेडकर जी की सबसे बड़ी ख्‍वाहिश को जवाहर लाल नेहरू ने ही साकार किया. इस परिवार के बारे में कैसी गंदी बात कही जबकि अंबेडकर जी की याद में एक इमारत का उद्घाटन हो रहा था. यहां मुझे लगता है कि ये आदमी बहुत नीच किस्‍म का आदमी है. इसमें कोई सभ्‍यता नहीं है, ऐसे मौके पर कोई इस गंदी राजनीति की क्‍या आवश्‍यकता है.

वहीं गुजरात में पहले चरण का प्रचार थमने से पहले पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला है. राजकोट में मनमोहन सिंह ने कहा कि नोटबंदी का जो बेसिक लक्ष्य था, वही फेल हुआ है. भ्रष्टाचार अभी भी हो रहा है. मनमोहन सिंह ने कहा कि हमारे कार्यकाल में जब भ्रष्टाचार पर कोई शिकायत आई, तो हमने उस पर तुरंत एक्शन लिया. लेकिन जब एनडीए के दौरान ऐसा हुआ तो कोई एक्शन नहीं लिया गया.

बी आर अंबेडकर अंतरराष्ट्रीय केंद्र के उद्घाटन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि बाबा साहेब का राष्ट्र निर्माण में जो योगदान है, उस वजह से हम सभी उनके ऋणी हैं. हमारी सरकार का ये प्रयास है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों तक उनके विचार पहुंचें. विशेषकर युवा पीढ़ी उनके बारे में जाने, उनका अध्ययन करें.

Leave a Reply
Your email address will not be published. Required fields are marked *
Cancel reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *