Menu

बाबरी मस्जिद एक मस्जिद है और कयामत तक मस्जिद रहेगी: – मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड

बाबरी मस्जिद एक मस्जिद है और कयामत तक मस्जिद रहेगी: – मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड
राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद और तीन तलाक जैसे मुद्दों पर हैदराबाद में ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने अपनी सालाना बैठक में चर्चा की। बैठक के बाद बोर्ड ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि, बाबरी मस्जिद इस्लाम का महत्वपूर्ण हिस्सा है। मुस्लिम मस्जिद को कभी छोड़ नहीं सकते, न ही मस्जिद के लिए जमीन को बदल सकते हैं और न ही मस्जिद की जमीन किसी को तोहफे में दे सकते हैं। बोर्ड ने कहा, ‘बाबरी मस्जिद एक मस्जिद है और कयामत तक मस्जिद रहेगी। उसे शहीद करने से उसकी पहचान नहीं खो जाती।’

बोर्ड ने कहा कि बाबरी मस्जिद का दोबारा निर्माण करने के लिए संघर्ष जारी है और सर्वोच्च न्यायालय में जो मुकदमा चल रहा है, बोर्ड उसे पूरी ताकत से लड़ेगा। बोर्ड को उम्मीद है कि सर्वोच्च न्यायालय मामले में सच्चाई को समझेगा और बोर्ड और मुस्लिमों को सफलता मिलेगी।

Leave a Reply
Your email address will not be published. Required fields are marked *
Cancel reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *